ब्रेकिंग न्यूज़
1 . भगवा हिंदू सेना ने रोशनाबाद जेल में किया सुंदरकांड व हनुमान चालीसा का आयोजन 2 . बाजार चौकी के बाहर बनी अवैध पार्किंग, स्थानीय मित्र पुलिस ने मूंदी अपनी आंखें 3 . बस्ता रहित दिवस और पीटीएम का हुआ आयोजन 4 . कपड़ा कमेटी देहरादून ने छात्राओं को वितरित की यूनिफॉर्म 5 . पिता पुत्र ने लगाया मकान कब्जाने और झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देने का आरोप 6 . वर्चुअल के माध्यम से चारधाम यात्रा की मुख्यमंत्री ने की समीक्षा 7 . उप जिलाधिकारी ने किया तालाबों का निरीक्षण 8 . श्री श्री मां आनन्दमई के दिव्य ज्ञान का प्रकाश उनके भक्तों के बीच ज्ञान के रूप में विद्यमान है :स्वामी शिवानंद महाराज 9 . 9जून को देहरादून में आयोजित होगा भारतीय वैश्य महासंघ का वैवाहिक परिचय सम्मेलन 10 . क्षेत्र वासियों ने अधिशासी अभियंता से मुलाकात कर बताई समस्या 11 . गमगीन आंखों से कराए पुत्र के नेत्रदान 12 . डा सम्राट सुधा ने भारतीय ब्राह्मण समाज द्वारा प्रकाशित"तिथि पर्व दर्शिका"को सराहा 13 . जिले में संचालित निजी आयुष केंद्रों के एन०ए०बी०एच० से प्रत्यायन में सहयोग करेगी सरकार: डॉ स्वास्तिक 14 . एसएसपी प्रमेन्द्र सिंह डोबाल ने किया कोतवाली रानीपुर का वार्षिक निरीक्षण 15 . एसएसपी प्रमेन्द्र सिंह डोबाल ने किया कोतवाली रानीपुर का वार्षिक निरीक्षण 16 . चारधाम यात्रा रजिस्ट्रेशन धोखाधड़ी मामले में नगर कोतवाली पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार 17 . एस.एम.जे.एन. कालेज में प्रवेश आवेदन 700 के पार 18 . लोक सभा सामान्य निर्वाचन मतगणना स्थल का निर्वाचन अधिकारियो ने किया निरीक्षण 19 . पीएम श्री योजना से संबंधित कार्यशाला का हुआ आयोजन 20 . एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट हरिद्वार की ऑपरेशन स्माइल टीम दे रही परिजनों के चेहरे पर मुस्कान 21 . आईसीएआई हरिद्वार ब्रांच द्वारा आयोजित हुआ सेमिनार 22 . सिडकुल पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी तीन शातिर अभियुक्त गिरफ्तार 23 . वर्तमान पत्रकारिता को नारद जी से प्रेरणा की आवश्यकता : डॉ.शैलेन्द्र 24 . संविधान का अपमान करने पर ममता बेनर्जी मुख्यमंत्री पद से दे इस्तीफा :प्रेम प्रजापति 25 . सच्ची लगन व निष्ठा सफलता अवश्य दिलाती है:कमलेश कुमार गुप्ता 26 . जिलाधिकारी ने चार धाम के साथ ही कावड़ यात्रा पर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की सहूलियत हेतु ली बैठक 27 . अखिल भारतीय देवभूमि ब्राह्मण जन सेवा समिति ने वृक्षों पर रक्षासूत्र बाँध सरकार को चेताया 28 . धर्म कर्म के कार्य जीवन को कर देते है सफल:महंत कमलेशानंद 29 . पीएम श्री विद्यालय की तीन दिवसीय अभिमुखीकरण कार्यशाला का हुआ आयोजन 30 . झील प्रेमी बृजवासी के कमल झील को बचाने के प्रयास रंग लाएं 31 . कलकत्ता हाईकोर्ट का फैसला स्वागत योग्य :राकेश गिरि 32 . भारतीय मानवाधिकार परिवार ने शीतल पेय/शरबत का किया वितरण 33 . गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वाधान में हुआ संपन्न 34 . बीएसपीएस की राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय पदाधिकारियों की बैठक हुई सम्पन्न 35 . नही सुधर रही हरिद्वार की विद्युत व्यवस्था रात्रि 5 घंटे आधा शहर डूबा अंधेरे में- सुनील सेठी 36 . राजेश सैनी लगातार आठवीं बार बने उत्तराखण्ड माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष 37 . राजेश सैनी लगातार आठवीं बार बने उत्तराखण्ड माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष 38 . विश्व हिंदू परिषद,बजरंग दल तपोवन प्रखण्ड की बैठक हुई सम्पन्न 39 . राम नाम की भक्ति ही भक्तों के कल्याण का मार्ग :महंत रघुवीर दास 40 . 4जी श्मेसर बैडमिंटन चैंपियनशिप का भाजपा नेता डा.विशाल गर्ग और सीओ शांतनु पराशर ने किया शुभारंभ 41 . यज्ञ संसार चक्र की धुरी: डॉ पण्ड्या 42 . अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा ने पौधारोपण कर मनाया भगवान परशुराम का जन्मोत्सव 43 . मतदान प्रतिशत बढ़ने में कारगर साबित हो सकते हैं यह उपाय - अतुल मलिकराम 44 . कल्चर, कनेक्शन और क्रेडिबिलिटी: भारत में रीजनल पीआर के लिए सफलता के पिलर्स 45 . रिश्वत लेते लघु सिंचाई विभाग का अधिशासी अभियंता गिरफ्तार 46 . भारत रत्न स्व. राजीव गांधी की जयंती श्रद्धा व सौहार्द के साथ मनाई गई 47 . मुख्यमंत्री के आदेशों की अवेहलना कर रहा विद्युत विभाग:सुनील सेठी 48 . डिवाइडर पर खुदे गड्ढे से लोगो को पैदल चलने मे हो रही परेशानी 49 . मानसून के दृष्टिगत ललतारौ (बरसाती नदी) की सफाई आवश्यकः विनीत जौली 50 . मेरा समूचा जीवन क्षेत्रीय जनता की सेवा मे समर्पित:विनीत जोली

आत्मिक मंत्र है ॐ : एम.एस.रावत

आत्मिक मंत्र है ॐ : एम.एस.रावत

सबसे तेज प्रधान टाइम्स                                                               

गबर सिंह भण्डारी                                                                                         

श्रीनगर गढ़वाल। ॐ शब्द नही स्वासों,मन,बुद्धि मस्तिष्क,और पूरे हृदय शरीर को जीवन दायक मंत्र है,ॐ मन पर नियंत्रण करके शब्दों का उच्चारण करने की क्रिया को मंत्र कहते हैं,मंत्र विज्ञान का सबसे ज्यादा प्रभाव हमारे तन मन पर पड़ता है,मंत्र का जाप मानसिक क्रिया है,कहा जाता है कि जैसा रहेगा मन वैसा बनेगा तन,यानी यदि हम मानसिक रूप से स्वस्थ हैं तो हमारा शरीर भी स्वस्थ रहेगा,ॐ शब्द स्वस्थ्य को निरोग रखने का एक मंत्र है,जिसे सभी प्राणी मात्र को जाप करना आवश्यक है,ॐ तीन अक्षरों से बना है अ,ऊ और म,से निर्मित यह शब्द सर्व शक्तिमान है,जीवन जीने की शक्ति और संसार की चुनौती का सामना करने का साहस देने वाले ॐ के उच्चारण करने मात्र से विभिन्न प्रकार की समस्याओं व व्याधियों का नाश हो जाता है,ॐ सृष्टि के आरंभ में एक ध्वनि गूंजी ॐ और पूरे ब्रह्मांड में उसकी गूंज फेल गई पुराणों में येसी कथा मिलती है कि इसी शब्द से भगवान शिव,विष्णु, ब्रह्मा,प्रकट हुए,इसलिए ॐ को सभी मंत्रों का बीजमंत्र और ध्वनियों एवं शब्दों की जननी कहा जाता है,इस मंत्र के विषय में कहा जाता है कि ॐ के निरंतर उच्चारण मात्र से शरीर में मौजूद आत्मा जागृत हो जाती है, सारे रोग एवं तनाव से मुक्ति मिल जाती है,इस लिए धर्म गुरु ॐ का जप करने की सलाह देते हैं,जबकि वास्तुविदों का मानना है कि ॐ के प्रयोग से घर में मौजूद वास्तु दोषों को भी दूर किया जा सकता है,ॐ मंत्र को ब्रह्मांड का स्वरूप माना जाता है,धार्मिक दृष्टि से मना जाता है कि ॐ मे त्रिदेबों का वास होता है,इसलिए सभी मंत्रों से पहले ॐ का उच्चारण किया जाता है,"जैसे "

ॐ नमो भगवते वासुदेव,ॐ नम: शिवाय,आध्यात्मिक दृष्टि से यह माना जाता है कि नियमित ॐ मंत्र का जप किया जाय तो व्यक्ति का तन मन शुद्ध रहता है और मानसिक शांति मिलती है। ॐ मंत्र के जप से मनुष्य ईश्वर के करीब पहुंचता है और मुक्ति पाने का अधिकारी बन जाता है,ॐ इस बात पर एक मत है कि ॐ ईश्वर का मुख्य नाम है,योगदर्शन में स्पष्ट है कि यह ॐ शब्द तीन अक्षरों से मिलकर बना है,अ+उ+म.प्रत्येक अक्षर ईश्वर के अलग अलग नामों को अपने में समेटे हुए हैं,जैसे "अ" से व्यापक सर्वदेशीय,उपासना करने योग्य है,"उ " से बुद्धिमान,सूक्ष्म,सब अच्छाइयों का मूल नियम करने वाला है,"म"से अनंत,अमर, ज्ञानवान,और पालन करने वाला है,ये तो बहुत कम उदाहरण हैं जो ॐ के प्रतिक अक्षर से समझे जा सकते हैं,वास्तव में अनंत ईश्वर के अंगिनित नाम केवल इसी ओम शब्द में ही आ सकते हैं,और किसी में नहीं,अनेक बार या बारंबार ॐ का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनाव मुक्त हो जाता है,अगर आपको घबराहट या अधीरता होती है तो ॐ के उच्चारण से उत्तम कुछ भी नही।

यह शरीर विषैले तत्वों को दूर करता है,अर्थात तनाव के कारण पैदा होने वाले द्रव्यों पर नियंत्रण करता है। ॐ हृदय और खून के प्रवाह को संतुलित रखता है,इससे पाचन शक्ति तेज होती है,ॐ शरीर में फिर से युवावस्था वाली स्फूर्ति का संचार हो जाता है,नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है,रात को सोते हुए नीद आने तक मन ही मन ॐ शब्द का स्मरण करते रहने से अनेक फायदे होते हैं,जो स्वयं ही धीरे धीरे महसूस होता रहता है। कुछ विशेष प्राणायाम के साथ ॐ उच्चारण करने से फेफड़ों में मजबूती आती है।                                                  ( ॐ के उच्चारण की विधि )

प्रात: उठकर पवित्र होकर ओंकार ध्वनि का उच्चारण,पद्मासन,अर्धप्दमासन,सुखासन,ब्रजासन,में बैठकर ॐ का उच्चारण 5-7-10-21,अपने समयनुसार कर सकते हैं,ॐ जोर से बोल सकते हैं,धीरे धीरे भी बोल सकते हैं, यथा शक्ति ॐ जप माला से भी कर सकते हैं।

(ॐ जाप करने के लाभ)

ॐ जप करने से तन और मन को एकाग्र करने में मदद मिलती है,दिल की धड़कन और रक्त चाप व्यवस्थित होता है,इससे मानसिक बीमारियां दूर होती हैं,काम करने की शक्ति बढ़ जाती है,इसका उच्चारण करने वाला और इसे सुनने वाला दोनो ही लाभांवित होते हैं,ॐ के उच्चारण मात्र से पवित्रता का बोध भी हो जाता है,जोकि हमेशा रखना ही चाहिए।

शरीर में आवेगों का उतार-चढ़ाव प्रिय या अप्रिय शब्दों की ध्वनि से श्रोताओं,वक्ताओं दोनो में हर्ष,विषाद,क्रोध,घृणा,भय,तथा कामेच्छा के अवेगों को महशुस करते हैं,अप्रिय शब्दों से निकलने वाली ध्वनि से मस्तिष्क में उत्पन्न काम,क्रोध,मोह,भयलोभ,आदि की भावना से दिलकी धड़कने तेज हो जाती हैं,जिससे रक्त में 'tonksik' पदार्थ पैदा होता है,इसी तरह प्रेम से और प्यार से शब्दों की ध्वनि,मस्तिस्क,हृदय और रक्त पर अमृत की तरह रसायन की वर्षा करती है,कम से कम 108 बार ॐ का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनाव रहित हो जाता है,कुछ ही दिनों पश्चात शरीर में एक नई ऊर्जा का संचार होने लगता है,ॐ का उच्चारण करने से प्रस्थतियों का पूर्वानुमान होने लगता है,ॐ का उच्चारण करने से आपके व्यवहार में शालीनता आयेगी जिससे आपके शत्रु भी मित्र बन जाते हैं,ॐ का उच्चारण करने से आपके मन में निराशा के भाव उत्पन्न नही होते हैं,ॐ के जप करने से आत्महत्या जैसी सोच भी मन मे नही आती जीन बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता या जिनकी स्मरण शक्ति कमजोर है,उन्हे यदि नियमित ॐ का उच्चारण कराया जय तो उनकी स्मरण शक्ति मजबूत और शक्तिशाली बनेगी और पढ़ाई में मन भी खूब अच्छी तरह लगेगा।

बस इतना सा करना कहना है,ॐ ही जीवन हमारा ॐ प्राण धार है,ॐ ही करता विधाता ॐ ही पालन हार है,ॐ ही दुःख का विनाशक ॐ सर्वानंद है,ॐ सबका पूज्य है,हम ॐ का पूजन करे,ॐ के ही ध्यान से हम शुद्ध अपना मन करे,ॐ जपने से ही अंत में मोक्ष तक पहुंचा जायेगा।

--एम.एस.रावत



You Might Also Like...
× उत्तरी हरिद्धार
मध्य हरिद्धार
ज्वालापुर
कनखल
बी एच ई एल
बहादराबाद
शिवालिक नगर
उत्तराखंड न्यूज़
हरिद्धार स्पेशल
देहरादून
ऋषिकेश
कोटद्वार
टिहरी
रुड़की
मसूरी